Benefits of drinking aloe Vera juice / एलोवेरा का जूस

एलोवेरा 5,000 वर्ष पुरानी रामबाण औषधि है। इसका वानस्पतिक नाम धृतकुमारी और ग्वारपाठा है। इसे संजीवनी पौधा भी कहा जाता है। इसकी लगभग 250 उपजातियां हैं। इनमें से कुछ गिनी-चुनी ही औषधीय गुणों से युक्त हैं। उनमें जो सबसे ज्यादा प्रभावशाली प्रजाति है, उसे बार्बाडेन्सीस या एलोवेरा कहा जाता है। हमारे शरीर के सही विकास के लिए 21 अमीनो एसिड की जरूरत होती है। इनमें से 18 अमीनो एसिड केवल एलोवेरा में मिलते हैं। एलोवेरा जूस में कैल्शियम ,सोडियम, आयरन, पोटैशियम, क्रोमियम, मैंगनीज, तांबा और जस्ता आदि खनिज व लवण पाए जाते हैं।

*क्या है इसमें खास-  एलोवेरा में 18 धातु, 15 एमिनो एसिड और 12 विटामिन होते हैं। ये खून की कमी को दूर कर रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाते हैं। एलोवेरा का जूस गर्भाशय के रोगों और पेट के विकार को दूर करता है। गर्मी, उमस और बारिश के कारण निकलने वाले फोड़े-फुंसियों पर भी इसका रस लगाने से आराम मिलता है। गुलाब जल में एलोवेरा का रस मिलाकर चेहरे पर लगाने से चेहरा चमकने लगता है। 

*रोजाना ऐलोवेरा जूस पीने से होने वाले फायदे

-नुकसानदेह तत्वों को शरीर से बाहर कर देता है- प्रदूषण, जंक फूड, अनहेल्दी लाइफ स्टाइल, स्मोकिंग और ड्रिंकिंग आदि से शरीर में नुकसानदेह तत्व पैदा होते हैं। ऐलोवेरा जूस के नियमित सेवन से ये बाहर निकल जाते हैं। 

-वजन घटाने में सहायता करता है- रोजाना एक गिलास एलोवेरा जूस पीने से वजन घटने लगता है। इसके सेवन से बार-बार भूख नहीं लगती है। साथ ही, डायजेस्टिव सिस्टम ठीक रहता है। एलोवेरा जूस में कई पोषक तत्व होते हैं।,

-दांतों को स्वस्थ रखता है- एलोवेरा जूस दांतों का पीलापन साफ कर देता है। इसे रोजाना पीने से दांत हमेशा जर्म फ्री रहते हैं। यह सांसों की दुर्गंध को भी दूर करता है। एलोवेरा के जूस से गरारे करने पर मुंह के छाले ठीक हो जाते हैं।

-रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है- एलोवेरा जूस एक प्रकार का एनर्जी ड्रिंक है। इसके नियमित सेवन से दिन भर ताजगी और स्फूर्ति महसूस होती है। यह रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है।
-बालों और त्वचा को स्वस्थ बनाता है- एलोवेरा जूस के सेवन से रफ स्किन भी हेल्दी हो जाती है। इसके नियमित सेवन से त्वचा में निखार आता है। बाल हेल्दी और शाइनी हो जाते हैं। रूसी की समस्या भी दूर हो जाती है।

-एनीमिया में भी है असरदार- ऐलोवेरा जूस खून की कमी को दूर कर देता है। ऐलोवेरा का 6 से 8 इंच का छिला हुआ टुकड़ा, 5-7 तुलसी के पत्ते और 4-5 नीम के पत्ते लेकर थोड़ा पानी डालकर पीस लें। इस मिश्रण को गर्म कर काढ़ा बनाकर पीने से एनीमिया दूर हो जाता है।

-लाइलाज बीमारियों में भी है रामबाण- गिलोए रस 10-20 मिलीग्राम, ऐलोवेरा का रस 10-20 मिलीग्राम, गेहूं का जवारा 10-20 मिलीग्राम, तुलसी के 7 पत्ते, नीम के 2 पत्ते, इन सभी का जूस बनाकर सुबह-शाम लें। यह कैंसर और अन्य कई लाइलाज बीमारियों में दवा का काम करता है।

-ब्लड प्रेशर के रोगियों के लिए लाभदायक है- ऐलोवेरा जूस ब्लड सर्कुलेशन को ठीक करता है। इसीलिए यह ब्लड प्रेशर के रोगियों के लिए बहुत लाभदायक होता है। दिल से संबंधी बीमारियों को भी यह दूर कर देता है।
गर्भवती महिलाओं को नहीं करना चाहिए ऐलोवेरा का सेवन|

*फायदे ही नहीं ऐलोवेरा के हैं कई नुकसान भी हैं।

-ऐलोवेरा का प्रयोग खूबसूरती बढ़ाने में किया जाता है। इसके कई नाम हैं जैसे ग्‍वारपाठा, घृतकुमारी। दुनिया भर में इसकी 200 से अधिक प्रजातियां पाईं जाती हैं। इसके रस में 18 अमीनो एसिड, 12 विटामिन और 20 प्रकार के खनिज पाए जाते हैं। मगर हम आपको बता दें कि ऐलोवेरा खाने के केवल फायदे ही नहीं कुछ नुकसान भी होते हैं। लखनऊ में लोहिया अस्‍पताल के डर्मेटोलॉजिस्‍ट डॉक्‍टर सुरेश का कहना है कि बिना डॉक्‍टरी सलाह के ऐलोवेरा का सेवन नहीं करना चाहिए। विशेषकर गर्भवती महिलाओं को |

-गर्भवती और स्‍तनपान करवाने वाली महिलाओं को भूलकर भी ऐलोवेरा या उसके जूस का प्रयोग नहीं करना चाहिए। इससे गर्भाशय के संकुचन का खतरा रहता है, जिसके चलते गर्भपात या फिर गर्भस्‍थ शिशु में विकृति हो सकती है डायरिया का डर
डॉक्‍टर की सलाह के बिना ऐलोवेरा का सेवन करने से आप डायरिया के शिकार हो सकते हैं। इसके रस में ऐन्‍थ्राक्विनोन नामक एक केमिकल होता है, जिसकी वजह से डायरिया हो सकता है।

-पेट की अन्‍य बीमारियों का खतराऐलोवेरा में मौजूद लेटेक्‍स से कोलाइटिस, डायवर्टिकुलोसिस, आंतों में रुकावट, रक्‍त स्राव, पेद दर्द और अल्‍सर जैसी बीमारियां भी हो सकती हैं। ऐलोवेरा का रस डॉक्‍टर की सलाह के बिना नहीं लेना चाहिए।

-ऐलोवेरा हर व्‍यक्ति को सूट नहीं करता। कई बार इसके सेवन से त्‍वचा संबंधी बीमारियां, दाने, पित्‍त, खुजली, सूजन, सांस लेने में कठिनाई सीने में दर्द, गले में जलन जैसी समस्‍याएं हो सकती हैं।


Comments

No comment added yet, comment Now

Leave a comment