Butter Milk / छाछ

भोजन में अमृत है छाछ!!!

छाछ की तुलना अमृत से की गई है। इसी से इसका महत्त्व पता चलता है। यह शरीर से विजातीय तत्वों और विषैले तत्वों को निकालकर रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाती है। छाछ पीने से संग्रहणी , खांसी , बवासीर आदि रोग मिट जाते हैं। इसका नियमित उपयोग करने से शरीर पुष्ट, बलवान और सुद्रढ़  होता है  तथा चेहरा कांतिवान और खूबसूरत होकर दमकने लगता है। यह शरीर पर अनावश्यक चर्बी चढ़ने से रोकती है। छाछ पीने से शरीर की जलन शांत होती है। गर्मी के मौसम में ताजगी और तरावट देने में इसके जैसा कोई पेय नहीं हो सकता। इसे रोज पीना चाहिए ।

छाछ में विटामिन ” B 12 ” , कैल्शियम , पोटेशियम और फास्फोरस जैसे तत्व होते है जो बहुत लाभदायक है। ये हाजमा सुधारती है और कोलेस्ट्रॉल कम करती है। जिन्हे दूध हजम नहीं होता उन्हें छाछ पीनी चाहिए।

छाछ नाश्ते के साथ तथा दिन के भोजन ( लंच ) के बाद नियमित रूप से पीनी चाहिए। इससे शरीर में ऊर्जा बनी रहती है।

छाछ से घरेलु उपचार –

एक गिलास छाछ में एक चम्मच भुना पिसा जीरा और थोड़ा सेंधा नमक मिलाकर पीने से हर प्रकार के बवासीर ( Piles ) ठीक होते है।

गर्मी के मौसम में  लू लगने से बचने छाछ का उपयोग करना चाहिए।

आधा गिलास छाछ और आधा गिलास चावल का मांड मिलाकर रोज पीने से श्वेत प्रदर ठीक हो जाता है। 

अपच ,अजीर्ण, गैस व पेटदर्द होने पर छाछ में पिसा भुना जीरा , सेंधा नमक , और काली मिर्च मिलाकर पीयें। बहुत लाभ होगा।

छाछ में शहद मिलाकर पीने से पीलिया में आराम मिलता है।

सौंफ, जीरा और साबुत धनिया बराबर मात्रा में लेकर बारीक पीस लें। ये चूर्ण आधा चम्मच और थोड़ा सा सेंधा नमक छाछ में मिलाकर सुबह शाम पीने से दस्त ठीक हो जाते है।

छोटे बच्चों को दांत निकलते समय थोड़ी ताजा छाछ रोज पिलाने से दांत आसानी से निकलते है।

नियमित रूप से छाछ पीने से कब्ज ठीक होती है।

खट्टी छाछ पीने से शराब या भांग का नशा उतर जाता है।

रोजाना छाछ पीने से आँखे स्वस्थ रहती है। 

खाना खाने के बाद रोज छाछ पीने से वीर्य में वृद्धि होती है।

एक गिलास छाछ के साथ एक चम्मच त्रिफला पाउडर कुछ दिन लेने से मोटापा कम हो जाता है।

10 ग्राम अजवायन और 10 ग्राम गुड़ मिलाकर छाछ के साथ लेने से पित्ती ठीक होती है।

एक गिलास छाछ में सेंधा नमक, भुना पिसा जीरा, पिसी काली मिर्च और पोदीना मिलाकर पीने से आंतो की सूजन ठीक हो जाती है।


Comments

No comment added yet, comment Now

Leave a comment