Healthy Breakfast, Lunch and Dinner

महिलाएं पूरी फैमिली के खाने पीने का तो ध्यान रखती हैं, लेकिन बात जब अपनी आती है, तो कोताही बरतती हैं। आप चाहे वर्किंग हों या हाउस वइफ, पुरुषों के मुकाबले आपको ज्यादा स्टेमिना की जरूरत होती है। यह स्टेमिना आपको तभी मिल सकता है, जब आप बैलेंस डाइट लेंगी।

इसके लिए जरूरी है अपनी डाइट में विटामिन, जिंक, प्रोटीन और कैल्शियम को शामिल करना :

हेल्दी ब्रेकफास्ट

ब्रेकफास्ट कभी स्किप ना करें। कोशिश करें कि ब्रेकफास्ट हेल्दी हो। इसके लिए आप दूध, फूट जूस, कॉर्न फ्लेक्स, दलिया और स्प्राउट्स के ऑप्शन पर जा सकती हैं। ब्रेकफास्ट में एक फ्रूट जरूर खाएं। मसलन, स्ट्रॉबेरी, सेब या अमरूद वगैरह। अधिकतर लोगों को सुबह चाय पीने की आदत होती है लेकिन खाली पेट चाय पीना हेल्थ के लिए सही नहीं है। अगर हैबिट में आ गया है, तो ब्लैक टी, स्किम्ड मिल्क या फिर ग्रीन टी ले सकते हैं । ब्रेकफास्ट में ब्राउन बेड या इससे बने सैंडविच भी ट्राई कर सकती हैं।

लंच को बनाएं पौष्टिक

ब्रेकफास्ट और लंच के बीच चार से पांच घंटे का गैप लेकर चलें। लंच में हरी सब्जियां और दालें शामिल करें। गेहूं के आटे के साथ बेसन और चने के आटे को भी यूज कर लें, तो बेहद हेल्दी रहेगा। अगर अंडा खाती हैं, तो अंडे की सफेदी को हल्के तेल में फ्राई करके भुजिया बनाकर खाना भी फायदेमंद रहेगा। सलाद और दही को अपने खाने में जरूर शामिल करें।

डिनर का भी रखें खास ख्याल

रात के समय लाइट फूड खाएं। संभव हो, तो खाने से पहले सूप पीएं। रात को आप खिचड़ी, पोहा, चीला, पुलाव, उपमा या फिर रोटी और प्लेन दाल या हल्के मसाले की सब्जी भी खा सकते हैं। इन्हें डाइजेस्ट करना आसान होता है । खाने के टाइम के अलावा अगर संभव हो तो एक दो घंटे के गैप में कुछ ना कुछ हल्का फुल्का जैसे बिस्कुट या फिर कोई फूट खा लें, ताकि लंबे समय तक खाली पेट रहने से आपको गैस्ट्रीक की समस्या से ना जूझना पड़े ।

इन बातों का ध्यान रखें...
- प्लान बेस्ड डाइट बनाएं, जिसमें सब्जियां और दाल अधिक हों।

-रोज 400-800 ग्राम सब्जियां या फल जरूर खाएं।

- 600-800 ग्राम सीरियल्स अपनी डाइट में जरूर शामिल करें।

- अगर नॉनवेज खाती हों, तो मीट की जगह फिश खाएं।

- नमक की जगह अपने खाने में हर्ब्स या मसाले डालें।


Comments

No comment added yet, comment Now

Leave a comment