राहु काल मे रखे विशेष ध्यान

राहु को ज्योतिष में मदिरापान, झूठ बोलने, नशा एवं वाद्य यंत्रों पर स्थान दिया गया है। यदि कुंडली में राहु की स्तिथि शुभ फल देने वाली ना हो तो शुभ फल हेतु माँ सरस्वती की वंदना अत्यंत कल्याण कारी कही गई है। साथ ही बटुक भैरव, काल भैरव के पूजन व स्तुति से भी राहु ग्रह के अशुभ प्रभाव रोके जा सकते हैं। राहु काल को छोड़कर यदि रुद्राभिषेक अपनी कुंडली में चंद्र की स्थिति को देखकर गंगाजल, दुग्ध, गन्ने के रस से किया जाए तो भी राहु के फल को अशुभ के स्थान पर शुभ किया जा सकता है। पूर्व विद्वानों व गुरुओं द्वारा इसी क्रम में पूजन व ध्यान को सदैव ब्रह्ममुहूर्त काल मे करने की सलाह दी गई है। क्योंकि राहु एक मायाग्रह भी माना गया है अतः यदि किसी को राहु की महादशा चल रही हो एवं मानसिक तनाव की स्थिति बनी हुई हो, उस स्थिति में राहु काल मे कोई भी पूजन व जप तप न हो तो लाभ देगा।

राहु काल का समय:


सोमवार प्रातः 7:30 से 9:00 बजे तक
मंगलवार अपराहन 3 से 4:30 बजे तक
बुधवार अपराहन 12 बजे से 1:30 बजे तक
बृहस्पतवार अपराहन 1:30 बजे से 3:00 बजे तक
शुक्रवार प्रातः 10:30 से 12:00 बजे तक
शनिवार प्रातः 9:00 बजे से 10:30 बजे तक
रविवार शाम 4:30 बजे से 6:00 बजे तक

विशेष: 


1. कुंडली में यदि राहु सूर्य के साथ या राहु सूर्य के नक्षत्र में हो तो खासकर आंख एवं हृदय का विशेष ध्यान रखें। Cholestrol की नियमित जांच कराते रहे। उपाय:- अखरोट का सेवन और अलसी के बीज का सेवन लाभ देगा।
2. कुंडली में यदि मंगल के साथ राहु हो तो court केस, बिना देखे हस्ताक्षर कभी ना करें, जेल यात्रा होने के पूर्ण आसार हैं। उपाय:- काल भैरव अष्टकम, नियमित प्रातः पूजन, चार बाती वाला दिया भैरव जी को जलाएं, माँ सरस्वती की वंदना करें। 
3. कुंडली में गुरु के साथ राहु की स्थिति चांडाल दोष की तरफ इशारा करती है, जिससे व्यक्ति के ऊपर झूठे आरोप प्रत्यारोप, पद की हानि, धन की हानि इत्यादि।
उपाय:- गुरु राहु की शांति नितांत आवश्यक हो जाती है। बटुक भैरव स्तोत्र एवं भैरव जी का पूर्ण श्रृंगार गुरुवार के दिन करना कष्टों से बचायेगा।
4. राहु से पीड़ित व्यक्ति को घर के अंदर बंद घड़िया, बंद खिलौने, वाद्य यंत्र जो कार्य में न लाए जा रहे हो, छत के ऊपर कूड़े का ढेर इकट्ठा होना, इन चीजों को घर में नहीं रखना है।
5. राहु से पीड़ित व्यक्तियों को उरद की दाल , दही वड़े, नारियल पानी वाला नही पीना, इमरती  नही खानी है |

जन मानस को राहु के दुष्प्रभाव से बचाने के लिए यह कार्य किये जा सकते है

 

Image Source:- Google 


Comments

AbigaleInjew on November 11, 2017 8:47 am
NurmangaliInjew on November 11, 2017 8:47 am
NaomiInjew on November 11, 2017 8:47 am

Download ringtones, message tones, alert tones etc... Free mobile ringtones for all type of phones, shared and submitted by our users. Choose from over 41000 ringtones uploaded under various categories. Get the latest ringtones in mp3 file format and set the coolest, trendiest tone as your mobile ri

Mariasaf on November 11, 2017 8:47 am
MishellInjew on November 11, 2017 8:47 am

Download ringtones, message tones, alert tones etc... Free mobile ringtones for all type of phones, shared and submitted by our users. Choose from over 41000 ringtones uploaded under various categories. Get the latest ringtones in mp3 file format and set the coolest, trendiest tone as your mobile ri

Leave a comment